18, February 2018 4:33 PM
Breaking News

इन राशियों के लोग सबसे ज्यादा झूठ बोलने में होते है माहिर…

कहते हैं की व्यक्ति का झूठ बोलना उसकी फितरत में होता है लेकिन अगर कोई व्यक्ति झूठ बोलता है तो वो किसी न किसी मुसीबत में फंस जाते है, ऐसी स्थिति से जूझ रहा हो जहां सच उसका बड़ा नुकसान कर सकता हो या कुछ ऐसे हालात जहां वो बचकर निकलना चाहता हो। लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हैं जिनका स्‍वभाव ही झूठ बोलने वाला होता है, मतलब जरूरत पड़ने पर ये आपको झूठा और खुद को सच्‍चा भी बना सकते हैं। ज्योतिष के मुताबिक आपको बताते हैं कि इन राशियों के लोग झूठ बोलने में माहिर होते हैं।

मिथुन राशि

मिथुन राशि के लोग झूठ बोलने में माहिर होते हैं। इस राशि के लोगों का हर चीज के प्रति अलग नजरिया होता है। जो औरों के लिए झूठ होता है, वह उन्हें कई बार सच लगता है और वे ऐसा लगातार करते जाते हैं।

 

कुंभ राशि

कुंभ राशि के लोग बेहद ही मतलबी मिजाज़ के होते हैं। वो अपना काम निकालने के लिए झूठ का सहारा लेते हैं। काम पूरा होने के फौरन बाद निकल लेते हैं। इनके लिए लड़ाई में सब कुछ जायज होता है। ये झूठ बोलने से पहले घबराते नहीं हैं।

कर्क राशि

कर्क राशि के लोगों को घुमा-फिरा कर बात करने की आदत होती है। यह किसी को भी अपनी बात का पूरा सच नहीं बताते लेकिन यह हमेशा झूठ भी नहीम बोलते।

मेष राशि

मेष राशि के जातक आम तौर पर झूठ बोलने से बचते हैं। उनमें सच का सामना करने की हिम्मत होती है। कभी अगर वे झूठ बोलते ही हैं, तो दूसरों को बचाने के लिए या उनके भले के लिए यह कदम उठाते हैं। हालांकि, वे झूठ बहुत सफाई से नहीं बोल पाते हैं।

वृषभ राशि

इस राशि के जातकों को झूठ बोलने आदि के लिए नहीं जाना जाता है। ये लोग सादा जीवन जीने वाले वफादार होते हैं। ऐसे लोग किसी से सच ही बोलते हैं, भले ही झूठ बोलने से उन्हें कितना भी लाभ हो रहा हो। ऐसे लोग बहुत मजबूरी की स्थिति में ही झूठ का सहारा लेते हैं, वरना वे सच के साथ ही जीते हैं।

(खबर का स्रोत : संवाददाता / एजेन्सी / अन्य न्यूज़ पोर्टल )

मुख्य ब्रेकिंग अपडेट के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें | आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते है|

Written by Digital Team Pradesh Lehar - Visit Website
loading...

About Digital Team Pradesh Lehar

Check Also

भूल कर भी उपहार में न दे ये चीजें !…

कहते है उपहार और पुरस्कार जीवन की वो दो अनमोल चीजे है, जिनकी कभी मोल नहीं लगाया जा सकता है. जिस प्रकार मेहनत करने से पुरस्कार मिलता है. उसी प्रकार उपहार प्यार की मिसाल कायम करता है. यानि ये मेहनत और प्यार दोनों का मिश्रण है. जहाँ पहले के समय लोग बहुत सोच समझ कर और प्यार के साथ उपहार देते थे, वही आज के समय में लोगो के पास इतना समय नहीं होता कि वे खास उपहार ढूढ़ने

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *